Follow my blog with Bloglovin

आज हम जानेंगे छत्तीसगढ़ के नवगठित गौरेला पेंड्रा मरवाही के बारे में

दोस्तों आज मैं आपको बताने वाला हु छत्तीसगढ़ के नवगठित गौरेला पेंड्रा मरवाही जिले के बारे में……

विकास खंड: गौरेला पेंड्रा मरवाही

ग्राम पंचायत : 166

जिले का कुल क्षेत्रफल: 1 लाख 68 हजार 225 हेक्टेयर है |

छत्तीसगढ़ राज्य के मुख्यमंत्री माननीय भूपेश बघेल जी के द्वारा पिछले 15 अगस्त को जिले बनाने की घोषणा की थी, जिसके तहत बिलासपुर जिले को विभाजित कर एक नया जिला का निर्माण गौरेला  पेंड्रा मरवाही नाम से किया गया. सरकार ने 20 सितंबर 2019 को जिले के गठन के लिए राजपत्र में आदिसूचना भी प्रकसित भी किया था.

गौरेला पेंड्रा मरवाही का इतिहास 

इस जिले में छत्तीसगढ़ का प्रथम समाचार पत्र छत्तीसगढ़ मित्र का प्रकाशन मासिक पत्रिका के रूप में पेंड्रा से वर्ष 1900 में पंडित माधवराव सप्रे के संपादन में प्रकाशित किया जाता था|

जिले की स्थिति:

गौरेला पेंड्रा मरवाही जिला उतर में मनेंद्रगढ़, दक्षिण में कोटा और लोरमी और पश्चिम में मध्यप्रदेश राज्य जिले के सोहागपुर और पुष्पराजगढ़ तहसील से घिरा हुआ है”

नदी: 

अरपा नदी: यह महानदी की सहायक नदी है| इसका उद्गम गौरेला पेंड्रा मरवाही के पेंड्रा लोरमी पठार में स्थित खोडरी पहाड़ से हुआ है.

सोन नदी: गंगा नदी की ये सहायक नदी है, जिसका उद्गम पेंड्रारोड तहसील से बंजारी पहाड़ से हुआ है.

 पर्यटन स्थल: 

कबीर चबूतरा– अमरकंटक वाले रास्ता में पड़ता है| यहाँ महान संत कबीर और गुरु नानक की मुलाकात हुई थी और साथ ही उनके साथ यहाँ गहरी मंत्रणा भी हुई थी, यही करना से इस जगह को धार्मिक पर्यटन के लिहाजा से महत्पूर्ण है.

जलेश्वर धाम – पेंड्रा से अमरकंटक वाले रास्ता में जलेश्वर धाम स्थित है. यहाँ का प्राचीन शिव मंदिर आकर्षण का प्रमुख केंद्र है| सावन के समय में यहाँ बड़ी मात्रा में शिव भक्त पैदल ही जल चढ़ाने के लिए आते है| यहाँ एक प्राकृतिक कुंड भी आकर्षण का केंद्र है.

लक्षणधारा– ये धरा केंवची के पास मौजूद लक्षणधारा आकर्षण का केंद्र रहा है| इस जगह पर साल भर पानी रहता है.

झोझा जलप्रपात – गौरेला ब्लॉक के अंतर्गत बस्ती ग्राम में ये जलप्रपात है, जो की क्षेत्र का प्रमुख आकर्षण का केंद्र है| यहाँ जानना दिसम्बर से फरबरी तक जाने का सही समय है यह जलप्रपात की ऊंचाई 100 फीट है जिसे देखाने में बहुत खूब सूरत दिखाई पड़ता है.

धनपुर- पेंड्रा से सिवनी वाले मार्ग में यहाँ आदिशक्ति माता दुर्गा जी का मंदिर स्थित है इस जगह पर प्राचीन कलाकृति लोगो के आकर्षण का केंद्र है| यहाँ की मान्यता है कि अज्ञातवास् के दौरान पांडव इस जगह पर रुके थे और यहाँ कई इतिहासिक कलाकृति भी मौजूद है.

पर्यटन स्थान

राज महल गढ़ी पेंड्रा
सोनकुंड पेंड्रा
इंदिरा उद्यान पेंड्रा
ज्वलेश्वर धाम पेंड्रा
झोझा झरना बस्तीबगरा गौरेला
राजमेरगढ़ गौरेला
दुर्गा धारा वाटर फॉल पकरिया रोड गौरेला
लक्ष्मण धारा गौरेला
करियम गौरेला
श्री आदिशक्ति माँ दुर्गा देवी “शक्तिपीठ” धनपुर
नेचर कैंप गगनई जलाशय
शिवघाट मनौरा मरवाही (पिकनिक स्पॉट)
समुदलाई पर्यटन स्थल मरवाही
लखनघाट पर्यटन स्थल मरवाही