सुखी डाली एकांकी का सारांश लिखिए। Write a summary of Happy Dali Single.

0
6056

श्री उपेन्द्रनाथ अश्क द्वारा लिखित एकांकी ‘सूखी डाली’ एक पारिवारिक सामाजिक एकांकी है। इसमें पारिवारिक जीवन में स्वाभाविक रूप से उभरते हुए द्वन्द्वों का प्रभावशाली चित्रण किया गया है। इस एकांकी में वट वृक्ष का चित्रण प्रतीकात्मक है। उसे अभिभावक के रूप में चित्रित किया गया है। इसके द्वारा एकांकीकार ने यह सिद्ध करने का प्रयास किया है कि संयुक्त परिवार में अभिभावक की भूमिका सुखद, आनंददायक और प्रगति विधायक एक ऐसे वट वृक्ष की तरह होती है। जिसकी छाया स्थाई रूप से शीतल, शांतिमयी और मनमोहक होती है।


The single ‘Dry Dali’ written by Shri Upendranath Ashk is a family social monologue. It depicts the conflicts arising naturally in family life. The depiction of the banyan tree in this monologue is symbolic. She is portrayed as the guardian. Through this, the monographer has tried to prove that the role of the parent in a joint family is pleasant, enjoyable and progressing like a banyan tree. Whose shadow is permanently cool, peaceful and charming.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here