रेखा तथा कर्मचारी संगठन  (Line and Staff Organisation)

संगठन के दोषों को दूर करने के लिए इस कर्मचारी एवं लम्बवत् संगठन का निर्माण हुआ। यद्यपि इस प्रणाली में भी कार्य का विभाजन स्वतन्त्र विभागों में किया जाता है और उत्तरदायित्व का विभाजन भी लम्बरूप में ही होता है किन्तु विभागीय प्रमुखों के साथ तकनीकी विशेषज्ञ भी नियुक्त किए जाते हैं। उनका कार्य सलाहकारी होता है, प्रवन्धात्मक नहीं। पहले की भाँति फोरमैन का श्रमिकों पर पूरा अधिकार रहता है तथा उनके हर कार्य के लिए वही जिम्मेदार होता है। विशेषज्ञ विभिन्न अंगों पर सलाह देने के साथ-साथ अनुसन्धान कार्य में भी लगे रहते हैं। इस प्रणाली की प्रमुख विशेषता यह है कि इसमें सोने एवं परामर्श देने तथा करने के कार्य दोनों अलग-अलग हो जाते हैं। विशेषज्ञ अथवा स्टाफ-अधिकारी रेखा अधिकारियों को परामर्श देते हैं। इस प्रकार विशेषज्ञ या स्टाफ अधिकारी सोचते हैं एवं परामर्श देते हैं तथा लाइन अधिकारी कार्य करते हैं।

जेम्सी मूने (James D. Mooney) के अनुसार, संगठन में स्टाफ या कर्मचारी सेवा से आशय सेवा या परामर्श से होता है जो अधिकार या आदेश से भिन्न होता है।” यहाँ यह स्पष्ट करना आवश्यक नहीं होगा कि स्टाफ के परामर्श को मानना या व मानना पूर्णतः रेखा अधिकारी की इच्छा पर निर्भर करता है। दूसरे शब्दों में, यह कहा जा सकता है कि रेखा अधिकारी स्टाफ के परामर्श को मानने के लिए बाध्य नहीं है। इसमें करने (Doing) तथा सोचने (Thinking) में स्पष्ट भेद है। रेखा’ करने चाला तथा ‘स्टाफ’ सोचने वाला है।

कर्मचारी एवं रेखा संगठन के लक्षण (Characteristics of Staff and Line Organisation)

कर्मचारी एवं रेखा संगठन के प्रमुख लक्षण निम्न है-

(1) इसमें रेखा अधिकारियों की सहायता के लिए कर्मचारियों की नियुक्ति की जाती है।

(2) कर्मचारी विशेषज्ञों के रूप में होते हैं जिनका कार्य रेखा अधिकारियों परामर्श देना है।

(3) विशेषज्ञों का परामर्श वैज्ञानिक तव्यों, यथार्थता तथा व्यावहारिकता पर आधारित होता है।

(4) रेखा अधिकारी विशेषज्ञों के परामर्श को मानने के लिए बाध्य नहीं है। इस प्रकार विशेषज्ञ रेखा अधिकारियों को केवल परामर्श ही दे सकते हैं, उन्हें किसी निर्णय को लेने के लिए विवश नहीं कर सकते।

(5) इसमें अधिकार और उत्तरदायित्व ऊपर से नीचे की ओर सीधी रेखा में प्रवाहित होते |

(6) इसमें सोचने एवं परामर्श देने तथा करने के कार्य दोनों अलग-अलग होते हैं।

रेखा एवं कर्मचारी संगठन के लाभ या गुण (Advantages or Merits of Line and Staff Organization)

(1) विशेषज्ञों की नियुक्ति के लाभ-इस प्रणाली के अन्तर्गत रेखा अधिकारियों को परामर्श देने हेतु विशेषज्ञों की नियुक्ति की जाती है। अतः कार्य में गलती होने की सम्भावना कम हो जाती है तथा कार्यक्षमता में वृद्धि होती है।

(2) अनुसन्धान को प्रोत्साहन-विभिन्न विशेषज्ञों की नियुक्ति के कारण अनुसन्धान को सबसे अधिक प्रोत्साहन मिलता है।

(3) सोचने और करने में स्पष्ट भेद-इस प्रणाली के अन्तर्गत सोचने और करने की क्रियाओं को एक-दूसरे से अलग-अलग कर दिया गया है। सोचने वाले तो होते हैं स्टाफ अधिकारी तथा करने वाले होते हैं रेखा कर्मचारी अतः कार्य अधिक सुचारु रूप में सम्पन्न होता है।

(4) कुशल कर्मचारियों के लिए सुअवसर इसमें कुशल कर्मचारियों को उन्नति के लिए सुअवसर मिलता है क्योंकि उत्तरदायी पदों की संख्या में वृद्धि हो जाती है।

(5) मितव्ययिता- इसमें अपव्यय रुक जाता है तथा कर्मचारियों की कार्यक्षमता में वृद्धि हो जाती है। इस प्रकार इस पद्धति में पर्याप्त मितव्ययिता रहती है।

(6) सुदृढ़ निर्णय-विशेषज्ञों द्वारा दिये गये परामर्श के आधार पर रेखा अधिकारियों द्वारा लिये गये निर्णय सुदृढ होते हैं।

(7) कार्य-भार में कमी-इसमें रेखा अधिकारियों के कार्यभार में पर्याप्त कमी हो जाती है। अतः वे अपना अधिक समय अधिक महत्वपूर्ण कार्यों में लगा सकते हैं

रेखा एवं कर्मचारी संगठन की हानियाँ या दोष (Disadvantages or Demerits of Line and Staff Organisation)

(1) बहुत बड़े संगठन के लिए अनुपयुक्त विद्वानों के मतानुसार यह प्रणाली बहुत बड़े संगठन के लिए अनुपयुक्त है।

(2) खर्चीली पद्धति बहुत अधिक संख्या में विशेषज्ञों की नियुक्ति किये जाने के कारण यह प्रणाली अपेक्षाकृत खर्चीली है। इसके अतिरिक्त, इसमें अनुसन्धान के कार्यों पर अत्यधिक व्यय करना पड़ता है।

(3) विशेषज्ञों का उत्तरदायित्व नहीं-गलत सलाह देने पर विशेषज्ञों को उत्तरदायी नहीं ठहराया जा सकता है।

(4) संघर्ष की सम्भावना- कभी-कभी एक-दूसरे का दृष्टिकोण समझने में कठिनाई उत्पन्न हो जाती है। अतः गलतफहमी के कारण कर्मचारियों (रेखा अधिकारियों एवं विशेषज्ञों के बीच संघर्ष शुरू हो जाता है जिससे उद्योग को क्षति पहुंचती है।

(5) भ्रम की आशंका-कर्मचारियों के कर्त्तव्यों तथा दायित्वों का स्पष्ट विभाजन न होने के कारण भ्रम उत्पन्न होने की आशंका रहती है।


Line and Staff Organization

This employee and vertical organization was created to remove the defects of the organization. Although in this system also the division of work is done in independent departments and the division of responsibility is also done vertically, but technical experts are also appointed along with the departmental heads. Their work is advisory, not provisional. Like before, the foreman has full authority over the workers and he is responsible for their every work. Along with giving advice on various organs, experts are also engaged in research work. The main feature of this system is that in this both the functions of sleeping and giving and doing counseling are separated. The experts or staff-officers give advice to the line officers. Thus the specialist or staff officers think and advise and the line officers act.

According to James D. Mooney, in an organization, staff or employee service means service or advice which is different from authority or command.” Believing completely depends on the will of the line officer. In other words, it can be said that the line officer is not bound to follow the advice of the staff. There is a clear distinction between doing and thinking. ‘ is smart to do and ‘staff’ is thinking.

Characteristics of Staff and Line Organization

The main features of staff and line organization are as follows-

(1) In this, employees are appointed to assist the line officers.

(2) The staff are in the form of experts whose function is to advise the line officers.

(3) The advice of experts is based on scientific principles, accuracy and practicality.

(4) The Line Officer is not bound to follow the advice of the experts. Thus the experts can only advise the line officers, not compel them to take any decision.

(5) In this, rights and responsibilities flow from top to bottom in a straight line.

(6) In this, both the work of thinking and giving advice and doing are different.

Advantages or Merits of Line and Staff Organization

(1) Benefits of appointment of experts – Under this system, experts are appointed to advise the line officers. Thus, there is less chance of mistake in the work and efficiency is increased.

(2) Research is encouraged – Due to the appointment of various experts, research gets the most encouragement.

(3) Clear distinction between thinking and doing – Under this system the actions of thinking and doing have been separated from each other. Thinkers are staff officers and doers are line workers, so the work gets done more smoothly.

(4) Opportunities for skilled employees In this, skilled employees get opportunities for advancement as the number of responsible posts increases.

(5) Economy – In this, wastage is stopped and the efficiency of the employees increases. Thus, there is enough economy in this method.

(6) Strong decisions – On the basis of the advice given by the experts, the decisions taken by the line officers are strong.

(7) Reduction in workload – In this, there is a substantial reduction in the workload of the line officers. So they can devote more of their time to more important tasks.

Disadvantages or Demerits of Line and Staff Organization

(1) Unsuitable for a very large organization According to the opinion of scholars, this system is unsuitable for a very large organization.

(2) Expensive method Due to the appointment of a large number of experts, this system is relatively expensive. Apart from this, it has to spend a lot on research work.

(3) No responsibility of experts – Experts cannot be held responsible for giving wrong advice.

(4) Possibility of conflict- Sometimes difficulty arises in understanding each other’s point of view. Hence, due to misunderstanding, conflict starts between the employees (line officers and experts) which damages the industry.

(5) Fear of confusion – There is a possibility of confusion arising due to lack of clear division of duties and responsibilities of the employees.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here