परिपत्र क्या है ? इसकी विशेषताएँ लिखिए। What is circular? Write its features.

0
240

उत्तर-जब कोई सरकारी पत्र, कार्यालय ज्ञापन एक साथ अनेक प्राप्तकर्ताओं को भेजा जाता है, तो उसे ‘परिपत्र’ कहते हैं। परिपत्र एक ऐसा पत्र होता है, जो कि किसी कार्यालय में कार्यरत सभी व्यक्तियों के मध्य प्रसारित करने और उन्हें सूचित करने के लिए लिखा जाता है। इस प्रकार ह सकते हैं कि जिन पत्रों के द्वारा कार्यालयों में सूचनाएँ और आदेश प्रसारित किये जाते हैं, उन्हें

‘परिपत्र’ कहा जाता है। परिपत्र अंग्रेजी शब्द ‘सकूलर’ (Circular) का हिन्दी पर्यायवाची है। परिपत्र सदैव उच्च कार्यालय द्वारा अपने अधीनस्थ कार्यालयों को भेजा जाता है। परिपत्र आवश्यकतानुसार तीन प्रकार से लिखा जाता है

1. सरकारी पत्र (परिपत्र या सकूलर के मूल रूप में)।

2. कार्यालय ज्ञापन के रूप में परिपत्र। 3. ज्ञापन के रूप में परिपत्र।

केन्द्र सरकार यदि सभी राज्य सरकारों को एक सरकारी पत्र भेजती है, तो वह परिपत्र कहलाता है। इसी प्रकार, भारत सरकार कोई कार्यालय ज्ञापन किसी मन्त्रालय को भेजती है, तो वह भी परिपत्र के रूप में होता है। इसी प्रकार, यदि कोई ज्ञापन किसी मन्त्रालय के समस्त विभागों (Sections), अधिकारियों अथवा अधीनस्थ कार्यालय के नाम भेजा जाता है, तो वह भी परिपत्र कहलाता है। ‘परिपत्र’ की रचना सरकारी पत्र अथवा ज्ञापन के समान होती है। इस पर ‘ज्ञापन न लिखकर ‘परिपत्र’ लिखा जाता है। इस प्रकार, परिपत्र के तीन रूप होते हैं।

परिपत्र की मुख्य विशेषताएँ (Characteristics of Circular)

1. परिपत्र सदैव उच्च कार्यालय द्वारा अपने अधीनस्थ कार्यालयों को भेजा जाता है।

2. एक परिपत्र में एक ही विषय होता है। इसमें विषय का पूरी तरह उल्लेख रहता है।

3. उसमें सूचना तथा आग्रहपूर्ण निर्देश होता है।

4. इसकी शैली कार्यालयीन पत्रों जैसी होती है।

5. यह अन्य पुरुष शैली में लिखा जाता है। 6. भाषा सरल, सुबोध एवं स्पष्ट होती है।

7. सामान्यतः परिपत्र टंकित अथवा साइक्लोस्टाइल्ड होते हैं, किन्तु विभिन्न कार्यालयों को भेजी जाने वाली प्रतियों पर भेजने वाला अधिकारी स्वयं व्यक्तिशः हस्ताक्षर करे, तो अधिक उपयुक्त होता है।


Answer- When a government letter, office memorandum is sent to several recipients simultaneously, it is called ‘Circular’. A circular is a letter which is written to circulate and inform all the persons working in an office. It may be in such a way that the letters through which information and orders are disseminated in the offices are called

Called ‘circular’. Circular is the Hindi synonym of the English word ‘Circular’. The circular is always sent by the higher office to its subordinate offices. Circular is written in three ways as per requirement

1. Government letter (in original of circular or circular).

2. Circular in the form of Office Memorandum. 3. Circular in the form of Memorandum.

If the central government sends a government letter to all the state governments, it is called a circular. Similarly, if the Government of India sends an office memorandum to any ministry, it is also in the form of a circular. Similarly, if a memorandum is sent to all the departments, officers or subordinate offices of a ministry, then it is also called a circular. The composition of ‘Circular’ is similar to that of a government letter or memorandum. It is written ‘Circular’ instead of ‘Memorandum’. Thus, circular has three forms.

Main Characteristics of Circular

1. The circular is always sent by the higher office to its subordinate offices.

2. A circular has only one subject. In this the subject is fully mentioned.

3. It contains information and solicitation instructions.

4. Its style is similar to that of official letters.

5. It is written in other male style. 6. Language is simple, comprehensible and clear.

7. Generally circulars are typed or cyclostyled, but it is more appropriate if the sending officer himself personally signs the copies sent to different offices.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here