निषेधपरक संरचना क्या है ? विभिन्न प्रकार की निषेधात्मक संरचनाएँ लिखिए। What is a prohibitive structure? Write the different types of negative structures.

0
348

उत्तर-निषेधसूचक संरचना जिन संरचनाओं में किसी कार्य या क्रिया को नहीं करने का बोध हो, वहाँ निषेध-सूचक संरचनाएँ’ होती है, जैसे वह बोलता नहीं है। तुम लिखते नहीं हो। मैं समझता नहीं हूँ। ये संरचनाएँ दो प्रकार की होती हैं-(i) निषेधवाचक शब्द (अव्यय) से निर्मित संरचनाएँ। (ii) अन्य शब्दों से निर्मित निषेध सूचक संरचनाएँ।

1. निषेधवाचक शब्द (अव्यय) से निर्मित संरचनाएँ-हिन्दी में निषेधवाचक शब्द अथवा अव्यय हैं, जो स्वयं निषेध की अभिव्यक्ति करते हैं, जैसे—मत, न, नहीं ये तीनों शब्द अपना स्वतन्त्र अस्तित्व रखते हैं। एक-दूसरे के विकल्प नहीं है। ‘नहीं’ के स्थान पर ‘मत’ या ‘मत’ के स्थान पर ‘न’ का प्रयोग नहीं हो सकता है।

(क) ‘मत’ से बनने वाली निषेधपरक संरचनाएँ-1. तुम वहाँ मत जाओ। 2. तुम यह काम मत मुझसे बात मत करो। 4. आप यहाँ काम मत कीजिए। 5. झूठ मत बोलो। (ख) ‘नहीं’ से बनने वाली निषेधपरक संरचनाएँ सामान्यतः ‘नहीं’ वाक्य के बीच में होता है।

जैसे-मैं उसे नहीं जानता हूँ। यदि यह वाक्य के अन्त में आता है, तो अर्थ अन्तर आ जाता है,

जैसे-आप बोलेंगे नहीं ? यहाँ ‘नहीं’ निषेधात्मक न होकर प्रश्नात्मक बन गया है। जब ‘नहीं’ सकना क्रिया के साथ प्रयोग में आता है, तब सहायक क्रिया है का प्रयोग नहीं करना चाहिए, जैसे आप ऐसा नहीं कर सकते। वे आगे हिम्मत नहीं कर सकेंगे। ‘नहीं’ के साथ अनेक सहायक क्रियाओं का भी लोप हो जाता है, जैसे-उसने नहीं मारा। वह नहीं गया वह नहीं गिरा आदि। कई स्थानों पर “नहीं” का प्रयोग आज्ञायक के रूप में भी होता है, यथा- तुम वहाँ नहीं जाओगे। ‘नहीं’ से बनने वाली निषेधपरक संरचनाओं के उदाहरण- 1. आप जायेंगे नहीं ?

2. वे आयेंगे नहीं?8. विद्युत भ्रष्टाचार कांड में मंत्रीजी का हाथ नहीं है। 4. पृथ्वीराज कपूर, जैसा कलाकार सिनेजगत में नहीं है। 5. इन्दिरा गांधी के समान महिला प्रधानमंत्री होना अब संभव नहीं है। (ग) ‘न’ से बनने वाली निषेधपरक संरचनाएँ–1. वह शायद न आये। 2. न तुम करोगे न मैं करूँगा 8. वे आयेंगे न? 4. तुम वहाँ न जाया करो 5. आप वहाँ न जाया कीजिए।

II. अन्य शब्दों से निर्मित निषेधसूचक संरचनाएँ-निषेध को प्रकट करने वाले ‘नहीं’, ‘न’ और ‘मत’ के अतिरिक्त अन्य शब्द भी हैं, लेकिन उनसे अन्य अर्थों की भी अभिव्यक्ति होती है। इस प्रकार के शब्द इस प्रकार के होते हैं- 1. अनिषेध सूचक शब्द। 2. समास स्तर पर निषेध व्यक्त करने वाले शब्द। 3. प्रश्नसूचक शब्द 4. अनिषेध सूचक शब्दों में अन्तर्निहित निषेध अर्थ वाले शब्द। (क) अनिषेधसूचक शब्द-हिन्दी में कुछ ऐसे शब्द हैं जो निषेधसूचक नहीं हैं, फिर भी उनसे निषेधात्मक वाक्य रचना की जा सकती है। इस प्रकार के शब्द थोड़े, चुका, भला है।

‘थोड़े’ शब्द से बनने वाली निषेधपरक संरचना–1. हो चुका उससे काम अर्थात् वह काम नहीं करेगा।

2. अब वह जा चुका अर्थात् वह अब नहीं जायेगा।

3. वह पुस्तक ला चुका अर्थात् वह पुस्तक नहीं लायेगा।

4. वह पढ़ चुका अर्थात् पढ़ेगा नहीं।

5. अब! रहने दो, बस मिल चुकी अर्थात् अब! रहने दो, बस निकल गयी।

‘भला’ शब्द से बनने वाली निषेधपरक संरचनाएँ-

1. भला ऐसा भी होता है अर्थात् ऐसा नहीं होता।

2. अब वह आयेगा भला अर्थात् वह नहीं आयेगा।

3. भला बस स्टैण्ड पर खड़ी होगी अर्थात् बस गई होगी।

4. भला अब खाना मिल चुका- अर्थात् खाना नहीं मिलेगा।

5. भला ऐसा भी कहीं हुआ है अर्थात् ऐसा कहीं नहीं हुआ।

(ख) समास स्तर पर निषेध व्यक्त करने वाले शब्द-दो शब्दों के मेल को समास कहते है। हिन्दी में कुछ शब्द ऐसे होते हैं, जो किसी शब्द के साथ मिलकर सामासिक शब्द बन जाते हैं और उनसे निषेध की अभिव्यक्ति होती है। इस प्रकार के शब्द ‘शून्य’, ‘विहीन’, ‘हीन’, ‘रहित’ हैं। ‘शून्य’ शब्द से बनने वाली निषेध सूचक संरचनाएँ-1. वह स्थान जनशून्य है। 2. उस

ज्ञानशून्य को क्या समझाएँ ? 3. वायु शून्य स्थान पर एक मिनट व्हरना मुश्किल है। “विहीन’ शब्द से बनने वाले निषेधपरक वाक्य–1. रास्ता दिशाविहीन या 2. आभा ज्ञानविहीन है। 3. अशोक साधनविहीन है।

‘हीन’ शब्द से बनने वाले निषेधपरक वाक्य- 1. वह दृष्टिहीन था। 2. भिखारी वस्त्रविहीन है। 3. नहीन व्यक्ति का दुनिया में कोई सम्मान नहीं है। ‘रहित’ शब्द से बनने वाली निषेधपरक संरचनाएँ- 1. वह धनरहित है। 2. घड़ा जलरहित है। 3.

रोहित साधनरहित है।

(ग) प्रश्नसूचक शब्द से निषेध की अभिव्यक्ति हिन्दी में प्रश्नसूचक शब्दों से भी निषेध की अभिव्यक्ति होती है। निषेध को व्यक्त करने वाले प्रश्नसूचक शब्द ‘क्या’ ‘क्यों’, ‘क्योंकर’, ‘कौन’, कौन-सा है, जैसे

क्या वह अब आएगा ? वह अब क्यों आएगा ?

वह नहीं आएगा। यह नहीं आएगा।

वह अब क्यों कर आएगा ?

वह नहीं आएगा।

अब वह कौन-सा आने वाला है ? वह नहीं आएगा।

(घ) अनिषेधसूचक शब्दों में अन्तर्निहित निषेध अर्थ-हिन्दी में कुछ शब्द ऐसे भी हैं जो निषेधसूचक नहीं है, लेकिन उनका अर्थ निषेध को प्रकट करता है, जैसे-अनपढ़, असंगत आदि। जैसे-(अ) राम अनपढ़ है। (ब) यहाँ यह चित्र असंगत है।

पहले वाक्य का अर्थ है कि ‘राम’ पढ़ा-लिखा नहीं है, अतः निषेध ‘अनपढ़’ शब्द से प्रतीत हो रहा है। दूसरे वाक्य का अर्थ है, चित्र यहाँ संगत नहीं है, यह भी निषेध है, क्योंकि यह अर्थ भी निकलता है कि इस चित्र को यहाँ मत लगाओ।


Post-injunctive structures Structures in which there is a sense of not doing an action or action, there are ‘injunctive structures’, as if he does not speak. you don’t write I don’t understand These structures are of two types- (i) Structures made from negative words (Avayya). (ii) Prohibition indicative structures constructed from other words.

1. Structures made from the negative word (Avyaya) – In Hindi there are negative words or avyaya, which themselves express the negation, such as – vote, no, no, these three words have their own independent existence. There is no substitute for each other. ‘No’ can’t be used in place of ‘No’ or ‘No’ in place of ‘No’.

(a) Prohibitory structures formed by ‘vote’ – 1. You don’t go there. 2. You don’t do this work, don’t talk to me. 4. Don’t work here. 5. Don’t lie. (b) Injunctive structures formed from ‘no’ usually ‘no’ in the middle of the sentence.

Like I don’t know him. If it comes at the end of the sentence, then the meaning difference comes,

Like you won’t speak? Here ‘no’ has become questionable rather than negative. When ‘can’t’ is used with a verb, then the auxiliary verb is shouldn’t be used, just as you can’t. They will not be able to dare any more. With ‘no’, many auxiliary verbs are also omitted, such as he did not kill. He didn’t go, he didn’t fall etc. In many places “no” is also used as an imperative, such as you will not go there. Examples of prohibitive structures formed from ‘no’- 1. You will not go?

2. Will they not come?8. The minister has no hand in the electricity corruption scandal. 4. There is no artist like Prithviraj Kapoor in cinematography. 5. It is no longer possible to have a woman Prime Minister like Indira Gandhi. (c) Inhibitory structures made of ‘N’ – 1. He might not come. 2. Neither you will nor I will. 8. They will come, will they? 4. You don’t go there 5. You don’t go there.

II. Injunctive structures formed from other words – There are other words besides ‘no’, ‘no’ and ‘vote’ that express negation, but they also express other meanings. These types of words are as follows- 1. Prohibition indicative words. 2. Words expressing prohibition at the grassroots level. 3. Interrogative words 4. Prohibition Indicative words, words with implicit negation meaning. (a) Injunctive words – There are some words in Hindi which are not negative, yet they can be used to form negative sentences. Such words are few, paid, good.

Injunctive structure formed from the word ‘little’ – 1. The work done by him means that he will not work.

2. Now he has gone, that is, he will not go now.

3. He has brought the book, that is, he will not bring the book.

4. He has read that means he will not read.

5. Now! Let it be, just got that means now! Leave it, the bus has left.

Negative structures formed from the word ‘good’-

1. Well it also happens, that is, it does not happen.

2. Now he will come well that means he will not come.

3. Well the bus will be standing at the stand, that is, the bus must have gone.

4. Well now the food has been received – that is, food will not be available.

5. Well it has happened somewhere, that is, it has not happened anywhere.

(b) Words expressing negation at the compound level – the combination of two words is called Samas. There are some words in Hindi which, when combined with any word, become compound words and they express negation. Such words are ‘zero’, ‘without’, ‘inferior’, ‘without’. Indicative structures formed from the word ‘void’ – 1. That place is empty. 2. that

What to explain to the ignorant? 3. It is difficult to breathe a minute at the air void. Prohibitive sentences formed from the word “without” – 1. The path is directionless or 2. The aura is without knowledge. 3. Ashoka is resourceless.

Negative sentences formed from the word ‘inferior’- 1. He was blind. 2. The beggar is clothed. 3. No, the person has no respect in the world. Negative structures formed from the word ‘less’ – 1. He is moneyless. 2. The pitcher is waterless. 3.

Rohit is resourceless.

(c) Expression of negation with interrogative words In Hindi, interrogative words also express negation. Interrogative words expressing negation are ‘what’, ‘why’, ‘why’, ‘who’, which is

Will he come now? Why would he come now?

He won’t come. It will not fit.

Why would he do it now?

He won’t come.

Now which one is he going to come? He won’t come.

(d) Prohibitory words implicit in the negation meaning – There are some words in Hindi which are not negation, but their meaning reveals the negation, such as illiterate, inconsistent etc. For example- (a) Ram is illiterate. (b) Here the picture is inconsistent.

The meaning of the first sentence is that ‘Ram’ is not educated, so the prohibition seems to be from the word ‘illiterate’. The meaning of the second sentence is, the picture is not relevant here, this is also prohibited, because it also implies that do not put this picture here.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here