Follow my blog with Bloglovin

कौशल्या माता कौन है और इनका जन्म कहाँ हुआ था ?

दोस्तों हमें ये जानकारी बताते हुये ख़ुशी हो रहा है, जैसे की आपको पता होगा रामायण की एक प्रमुख पात्र कौशल्या माता भी थी।

रामायण में कौशल्या एक ऐसी स्त्री की कहानी हैं जो स्वभाव से मृदु, मधुर, मातृत्वभाव, धैर्यवान व कर्तव्यनिष्ठ थी। उन्हें भगवान विष्णु के सातवें अवतार भगवान श्रीराम की माता होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था लेकिन उन्होंने अपने जीवन में ज्यादातर कष्ट ही देखे। कौशल्या एक राजा की पुत्री, एक राजा की पत्नी व एक राजा की माँ होकर भी हमेशा कष्ट में रही लेकिन उन्होंने कभी भी अपना धैर्य नही खोया। आज हम आपको माता कौशल्या का जीवन परिचय देंगे।

कौशल्या माता कौशल प्रदेश ( छत्तीसगढ़ ) की राजकुमारी थी तथा अयोध्या के राजा दशरथ की पत्नी थीं और कौशल्या को राम की माता होने का सौभाग्य भी प्राप्त हुआ था।

कौशल्या का जन्म (Kaushalya Ka Janm)

कौशल्या के माता-पिता का नाम सुकौशल (Kaushalya Ke Pita Ka Naam) व अमृताप्रभा था जो कि कौशल देश के राजा-रानी थे। कौशल्या बचपन से ही धैर्यवान थी तथा हमेशा धर्म का पालन करती थी।

कौशल्या का राजा दशरथ के साथ विवाह (Kaushalya Ka Vivah)

जब कौशल्या विवाह योग्य हो गयी तब उनका विवाह अयोध्या नरेश महाराज दशरथ के साथ हुआ। वे उनकी प्रथम पत्नी थी तथा अयोध्या की प्रमुख महारनी भी। बाद में राजा दशरथ के दो और विवाह हुए जिनके नाम कैकेयी व सुमित्रा थे।

राजा दशरथ का झुकाव अपनी दूसरी पत्नी कैकेयी की ओर ज्यादा था क्योंकि वह रूपवती भी थी तथा युद्धकला में निपुण भी। साथ ही वह कैकेय जैसे शक्तिशाली देश की राजकुमारी भी थी।

Leave a Comment