IRDA ने बीमा कंपनियों को बीएफएसआई क्षेत्र में संपत्ति का 30% तक निवेश करने की अनुमति दी IRDA allows insurance companies to invest up to 30% of assets in BFSI sector

0
98

भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (IRDA) ने शुक्रवार को बैंकिंग, वित्तीय सेवाओं और बीमा (बीएफएसआई) कंपनियों में बीमा कंपनियों की अधिकतम निवेश सीमा 25% से बढ़ाकर 30% कर दी।

इरडा के निवेश विनियम, 2016 में नवीनतम परिवर्तनों के अनुसार, वित्तीय और Bima गतिविधियों के लिए जोखिम सीमा अब सभी बीमाकर्ताओं के लिए निवेश परिसंपत्तियों के 30% पर होगी। हाउसिंग फाइनेंसिंग कंपनियों और इंफ्रास्ट्रक्चर फाइनेंसिंग कंपनियों में निवेश इसका हिस्सा होगा।

विशेषज्ञों का मानना ​​है कि नियामक द्वारा की गई बढ़ोतरी से बीमा कंपनियों को वित्तीय और बीमा गतिविधियों में अपने निवेश को व्यापक भारतीय बाजार सूचकांकों के करीब लाने में मदद मिलेगी।

उदाहरण के लिए, वित्तीय सेवा कंपनियों का भारांक, जिसमें बड़े बैंक, गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (एनबीएफसी) और बीमा कंपनियां शामिल हैं, वर्तमान में लगभग 35% है।

Bajaj आलियांज लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड के मुख्य निवेश अधिकारी संपत रेड्डी के अनुसार, पिछले कुछ वर्षों में व्यापक भारतीय बाजार सूचकांकों में वित्तीय और बीमा कंपनियों का भार लगातार बढ़ा है।

“जीवन बीमा उद्योग बीएफएसआई क्षेत्र के जोखिम पर मौजूदा 25% क्षेत्रीय सीमा में वृद्धि की मांग कर रहा था। इस वृद्धि से बीमा कंपनियों को इस क्षेत्र में अपना निवेश बढ़ाने और इसे व्यापक बाजार स्तरों के करीब लाने के लिए आवश्यक छूट मिलेगी।”

रेड्डी का मानना ​​है कि इरडा के इस कदम से बीमा कंपनियां इस क्षेत्र में विविध शेयरों की अधिक व्यापक बास्केट रखने की स्थिति में होंगी।

एक इंसुरटेक कंपनी, ज़ोपर के सह-संस्थापक और मुख्य परिचालन अधिकारी मयंक गुप्ता के अनुसार, निवेश संपत्ति की सीमा 25% से बढ़ाकर 30% करना बीमा कंपनियों के लिए एक अच्छा कदम है।

“यह बीमाकर्ताओं को अपनी निवेश रणनीति को अनुकूलित करने के लिए अधिक जगह प्रदान करेगा, जिससे उनके लाभ और हानि में संभावित रूप से उच्च निवेश आय मिलेगी। इसका डोमिनोज़ प्रभाव अधिक आसान दावा निपटान नीतियों में देखा जा सकता है, जो अंततः अंतिम ग्राहकों के लिए बेहतर दावा प्रतिपूर्ति अनुभव में तब्दील हो जाएगा।”


The Insurance Regulatory and Development Authority of India (IRDA) on Friday increased the maximum investment limit of insurance companies in banking, financial services and insurance (BFSI) companies from 25% to 30%.

As per the latest changes in IRDA’s Investment Regulations, 2016, the exposure limit for financial and insurance activities will now be at 30% of investment assets for all insurers. Investment in housing financing companies and infrastructure financing companies will be part of this.

Experts believe that the hike by the regulator will help insurers to bring their investments in financial and insurance activities closer to the broader Indian market indices.

For example, the weighting of financial services companies, which includes large banks, non-banking financial companies (NBFCs) and insurance companies, currently stands at around 35%.

According to Sampath Reddy, Chief Investment Officer, Bajaj Allianz Life Insurance Company Limited, the weighting of financial and insurance companies in the broad Indian market indices has steadily increased over the years.

“The life insurance industry was demanding an increase in the existing 25% sectoral cap on exposure to the BFSI sector. This increase will give the necessary leeway to the insurance companies to increase their investment in the sector and bring it closer to the broader market levels.”

Reddy believes that this move by IRDA will put insurers in a position to have a wider basket of diversified stocks in the sector.

According to Mayank Gupta, co-founder and chief operating officer of Zooper, an insurtech company, increasing the investment property limit from 25% to 30% is a good move for insurance companies.

“This will provide more room for insurers to optimize their investment strategy, giving them a potentially higher investment income in profit and loss. The domino effect of this can be seen in more simplified claim settlement policies, which will ultimately translate into a better claim reimbursement experience for the end customers.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here