Follow my blog with Bloglovin

गौरेला पेंड्रा मरवाही छत्तीसगढ़ के 28वा जिले के बारे में

स्वतंत्र दिवस की 72वा वर्षगांठ पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी के द्वारा छत्तीसगढ़ प्रदेश में नए जिले यानी कि गौरेला पेंड्रा मरवाही का निर्माण की घोषणा किया गया था जहां दिनांक 20 सितंबर 2019 को स्वराज विभाग द्वारा पहली अधिक सूची जारी किया गया था

15 अगस्त 2019 को घोषित नए जिले का निर्माण बिलासपुर जिला को विभाजित कर 10 फरवरी 2020 सोमवार को छत्तीसगढ़ राज्य का 28वा जिला संबंधी अधिसूचना जारी किया है

तो चलिए आगे बात करते हैं इस जिले की कुछ खास बातें

नए जिले के गठन के पश्चात छत्तीसगढ़ राज्य में जिलों की कुल संख्या 27 से बढ़कर 28 हो गई जिसमें गौरेला पेंड्रा मरवाही जिला के नाम से भी जाना जाएगा

गठित प्रस्तावित जिला आदिवासी बहुल क्षेत्र है जहां गौरेला ब्लॉक के घने जंगलों के बीच राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र बैगा आदिवासी की बड़ी संख्या निवास करते हैं इस कारण इस जिला गौरेला पेंड्रा मरवाही जिला पहला विशेष अनुसूचित क्षेत्र वाले जिले का दर्जा प्राप्त हुआ है

तो चलिए बात करते हैं जिले का विभाजन के बारे में……….!

जिला विभाजन पूर्व छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा जिले का संभाग बस्तर संभाग चीन की कुल जिले सात (7) हैं, बाकी अन्य चार (4) संभाग दुर्ग संभाग रायपुर संभाग बिलासपुर संभाग सरगुजा संभाग में 5-5 जिले थे

28वा जिला गठन के पश्चात बिलासपुर संभाग बस्तर संभाग के बाद सर्वाधिक जिले वाला दूसरा संभाग बिलासपुर संभाग होगा जिसमें कुल 6 जिले होंगे नए जिले के घोषणा के पहले बिलासपुर के अंतर्गत 8 तहसील थे बिलासपुर बिल्हा मस्तूरी तखतपुर कोटा गौरेला पेंड्रा एवं मरवाही मौजूद है।

28वा जिला गठन के पश्चात इसमें तीन तहसील गौरेला पेंड्रा मरवाही को अलग कर नए जिला बनाया गया अलग होने के बाद बिलासपुर जिला में पांच तहसील बिल्हा मस्तूरी तखतपुर बिलासपुर कोटा सिर्फ बच गए हैं

नए जिले में तीन तहसील व तीन विकासखंड है जिनका नाम गौरेला, पेंड्रा एवं मरवाही है।

गौरेला पेंड्रा मरवाही जिला गठन के उपरांत यह पहला विशेष अनुसूचित क्षेत्र वाला जिला एवं एकमात्र विधानसभा क्षेत्र मरवाही था परंतु लोकसभा चुनाव में मरवाही तहसील कोरबा लोकसभा क्षेत्र में आता है।

इस जिले में आपको बैगा जनजाति देखने को मिलेगा विशेषकर गौरेला विकासखंड में जिसको राष्ट्रपति का दत्तक पुत्र माना जाता है

केंद्र शासन द्वारा घोषित 5 विशेष पिछड़ी जनजाति है अबूझमअडिया, बैगा, बिरहोर, कमार, पहाड़ी कोरवा।

जिला गौरेला पेंड्रा मरवाही संपूर्ण विवरण

छत्तीसगढ़ की नई जिले गौरेला पेंड्रा मरवाही संपूर्ण जानकारी इस प्रकार है.

स्थापना तिथि 10 फरवरी 2020
घोषणा 15 अगस्त 2019
पहली अधिसूचना 20 सितंबर 2019 स्वराज विभाग
जिला क्रम 28 वा
मातृ जिला बिलासपुर
सीमावर्ती राज्य मध्य प्रदेश
सीमावर्ती जिले 4( कोरिया कोरबा बिलासपुर मुंगेली)
क्षेत्रफल 2307.39 वर्ग किलोमीटर
जनसंख्या 336420 ( जनगणना 2011 )
तहसील 3( गौरेला पेंड्रा मरवाही )
विकासखंड 3( गौरेला पेंड्रा मरवाही )
नगर पंचायत 2( गौरेला पेंड्रा )
जनपद पंचायत 3( गौरेला पेंड्रा मरवाही )
ग्राम पंचायत 166
परिवहन रेल की सुविधा
प्राकृतिक प्रदेश छत्तीसगढ़ का मैदान
खनिज चूना पत्थर
प्रमुख नदी अरपा (उद्गम खोडरी खोंगसरा पहाड़ी ), सोन नदी ( सोन भद्र )
पर्यटन स्थल जलेश्वर महादेव , नेचर कैंप इत्यादि
पुरातात्विक स्थल धनपुर उत्तर पाषाण काल अवशेष
पशु प्रजनन केंद्र पकड़िया ( पेंड्रा )
परियोजना जामवंत परियोजना मरवाही कटघोरा मनेंद्रगढ़
विधानसभा सीट एक मरवाही अनुसूचित जनजाति
प्रथम समाचार पत्र छत्तीसगढ़ मित्र मासिक पत्रिका 1900 पेंड्रा रोड से प्रकाशित माधव राव सपरे

 

Leave a Comment