भारतीय संविधान में शिक्षा संबंधी प्रावधानों की विवेचना कीजिए। Discuss the provisions relating to education in the Indian Constitution.

0
47
हमारे संविधान में शिक्षा सम्बन्धी निम्न प्रावधान निहित हैं-

1. अनिवार्य तथा निःशुल्क शिक्षा-संविधान की 45वीं धारा के अनुसार राज्य 14 वर्ष की आयु पूरी करने तक सभी बच्चों के लिए संविधान लागू होने से दस वर्ष के अन्दर स्वतन्त्र व अनिवार्य शिक्षा की व्यवस्था करने का प्रयत्न करेगा।

2. धार्मिक शिक्षा-संविधान की इक्कीसवीं धारा के अनुसार किसी धर्म विशेष के प्रचार के लिए कर या दान देने के लिए किसी व्यक्ति को बाध्य नहीं किया जा सकता है। धारा 28 (1) में कहा गया है कि पूरी तरह राज्य के धन से चलने वाली किसी शिक्षण संस्था में धार्मिक शिक्षा नहीं दी जाएगी। धारा 22 (2) में कहा गया है कि सहायता प्राप्त या राज्य से मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थाओं के किसी सदस्य को उस संस्था द्वारा चलाए जा रहे किसी धार्मिक अनुष्ठान में भाग लेने के लिए विवश नहीं किया जा सकता है। धारा 28 के अनुसार अन्य धर्मों के अनुयायियों को उनकी सहमति के बिना धार्मिक अनुदेशन नहीं देना चाहिए।

महत्व 3. दृश्य सामग्री-धारा 49 में कहा गया है कि राज्य प्रत्येक स्मारक या संसद द्वारा राष्ट्रीय के घोषित स्थान व वस्तुओं का संरक्षण करे।

4. अल्पसंख्यकों की शिक्षा – धारा 30 के अनुसार अल्पसंख्यक समुदाय को मनपसंद शैक्षिक संस्थाएँ स्थापित करने व उनका प्रशासन करने का अधिकार प्राप्त है व अनुदान देते समय इन विद्यालयों के साथ इस कारण भेदभाव नहीं किया जा सकता है कि वे धार्मिक समुदाय द्वारा संचालित है। 5. पिछड़े वर्ग की शिक्षा-पिछड़े वर्गों की शिक्षा सम्बन्धी संवैधानिक धाराएँ व उनमें कही गई बातें निम्न हैं

(i) धारा 17 – अस्पृश्यता निवारण व किसी भी रूप में अस्पृश्यता का प्रयोग वर्जित है। (ii) धारा 24 – 14 वर्ष से कम आयु वाले किसी बच्चे को किसी फैक्ट्री, खान या अन्य खतरनाक रोजगार में कार्य करने के लिए नियुक्त नहीं किया जा सकता है। (iii) धारा 23- मनुष्यों के क्रय-विक्रय व बेगार पर रोक लगी रहेगी। रहेंगे।

(iv) धारा 15 – हिन्दुओं के सभी सार्वजनिक धार्मिक संस्थानों के द्वार पिछड़े वर्गों के लिए खुले

(v) धारा 16 व 335 राज्यों को सार्वजनिक सेवाओं में स्थान आरक्षित करने की छूट रहेगी।

(vi) धारा 46 – पिछड़े वर्गों के शैक्षिक व आर्थिक हितों के उन्नयन तथा उन्हें सामाजिक अन्याय व सभी प्रकार के शोषण से सुरक्षा मिलेगी।

6. कृषि शिक्षा – अनुच्छेद 48 के अनुसार यदि राज्य चाहे तथा यदि वह उत्तरदायित्व को स्वीकार करने में सक्षम हो तो वह आधुनिक व वैज्ञानिक दृष्टि से कृषि व पशुपालन का संगठन करने, नस्लों का संरक्षण व सुधार करने हेतु कदम उठा सकता है।

7. भाषा अनुदेशन संविधान की 350-ए धारा में कहा गया है कि प्रत्येक राज्य तथा राज्य में प्रत्येक स्थानीय निकाय प्राथमिक स्तर पर अल्पसंख्यक समूहों के बच्चों के लिए मातृभाषा में अनुदेशन के लिए पर्याप्त सुविधाएँ प्रदान करेगा। धारा 351 में कहा गया है कि यह संघ का कर्त्तव्य होगा कि वह हिन्दी भाषा के प्रसार व विकास को प्रोत्साहित करे ताकि वह भारत को समग्र संस्कृति के समस्त तत्वों के लिए अभिव्यक्ति का माध्यम बन सके।

8. केन्द्र व राज्य के शैक्षिक दायित्व भारतीय संविधान में केन्द्र व राज्य सरकार के शैक्षिक दायित्व स्पष्टतः परिभाषित किये गये हैं। केन्द्र सरकार शिक्षा सुविधाओं के समन्वय, उच्च वैज्ञानिक व तकनीकी शिक्षा के स्तरों के निर्धारण तथा हिन्दी व अन्य सभी भारतीय भाषाओं में शोध कार्य व उनकी अभिवृद्धि के लिए उत्तरदायी है। संघीय क्षेत्रों की शिक्षा व केन्द्रीय विश्वविद्यालय पर केन्द्र का सीधा नियन्त्रण है। देश के अन्य क्षेत्रों में शैक्षिक प्रशासन का दायित्व राज्य पर है।


The following provisions regarding education are enshrined in our constitution:

1. Compulsory and Free Education- According to the 45th Article of the Constitution, the State shall endeavor to provide free and compulsory education to all children till they complete the age of 14 years, within ten years from the coming into force of the Constitution.

2. Religious education – According to the twenty-first section of the Constitution, no person can be compelled to pay tax or charity for the promotion of any particular religion. Section 28(1) states that religious instruction shall not be imparted in any educational institution maintained wholly out of state funds. Section 22(2) states that no member of any educational institution aided or recognized by the State shall be compelled to take part in any religious ceremony conducted by that institution. According to section 28, religious instruction should not be given to the followers of other religions without their consent.

Significance 3. Visible material- Section 49 states that the State shall protect every monument or place and objects declared by Parliament as national.

4. Education of minorities – According to section 30, minority community has the right to establish and administer educational institutions of their choice and while giving grant, these schools cannot be discriminated against because they are run by religious community. 5. Education of the Backward Classes – The following are the constitutional sections related to the education of the backward classes and the things said in them

(i) Section 17 – Prevention of untouchability and the use of untouchability in any form is prohibited. (ii) Section 24 – No child below the age of 14 years may be employed to work in any factory, mine or other hazardous employment. (iii) Section 23 – Prohibition on the sale and purchase of human beings and forced labor. Will stay

(iv) Section 15 – The doors of all public religious institutions of the Hindus are open to the backward classes

(v) Section 16 and 335 states will be exempted to reserve seats in public services.

(vi) Section 46 – Upgradation of educational and economic interests of backward classes and they will get protection from social injustice and all kinds of exploitation.

6. Agricultural Education – According to Article 48, if the state wants and if it is able to accept the responsibility, then it can take steps to organize agriculture and animal husbandry, preserve and improve the breeds in a modern and scientific way.

7. Language Instruction Article 350-A of the Constitution states that every State and every local body in the State shall provide adequate facilities for instruction in the mother tongue to children belonging to minority groups at the primary stage. Article 351 states that it shall be the duty of the Union to encourage the spread and development of Hindi language so that it may become a medium of expression for all the elements of the composite culture of India.

8. Educational Responsibilities of the Center and the State Educational responsibilities of the Central and State Governments are clearly defined in the Constitution of India. The Central Government is responsible for the coordination of education facilities, determination of the standards of higher scientific and technical education and research work in Hindi and all other Indian languages ​​and for their promotion. The Center has direct control over the education of the Union Territories and the Central University. The responsibility of educational administration in other areas of the country rests with the state.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here