दादाजी ने छोटी बहू के अलावा घर के सभी सदस्यों को बुलाकर क्या समझाते है? What does the grandfather explain by calling all the members of the house except the younger daughter-in-law?

0
77

दादाजी छोटी बहू के अलावा घर के सभी को बुलाकर समझाते हैं कि उन सबको छोटी बहू के साथ मिलकर रहना चाहिए। उसकी शिक्षा व समझदारी का लाभ उठाना चाहिए और ऐसी कोई बात नहीं करनी चाहिए जिससे उसे परेशानी हो। ये सभी को कहते हैं कि कोई भी उम्र में, दर्जे में बड़ा नहीं होता, बड़ा तो बुद्धि और योग्यता से होता है। चाहे उम्र में छोटी बहू छोटी है पर वह उन सबसे बड़ी है। उसे जो आदर सत्कार अपने घर में मिलता था, वही इस घर में भी मिले। उसका काम सभी आपस में बॉट लें और उसे पढ़ने-लिखने का अधिक अवसर मिले। उसे यह अनुभव न हो कि वह किसी दूसरे घर में है। दादा जी सभी को चेतावनी भी देते हैं कि अगर किसी ने छोटी बहू का निरादर किया तो उनसे उनका नाता हमेशा के लिए टूट जाएगा।


Grandfather calls everyone in the house except the younger daughter-in-law and explains that all of them should live together with the younger daughter-in-law. One should take advantage of his education and understanding and should not do any such thing which will disturb him. They tell everyone that no one is big in age, in status, only by intelligence and ability. Even though the younger daughter-in-law is younger in age, she is the eldest among them. The respect that he used to get in his house, the same should be found in this house as well. All of his work should be botched among themselves and he should get more opportunities to read and write. He should not feel that he is in another house. Dada ji also warns everyone that if someone disrespects the younger daughter-in-law, then their relationship with her will be broken forever.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here