31.4 C
Chhattisgarh

DotCom

Home book authors Sumitranandan Pant

Sumitranandan Pant

Sumitranandan Pant (20 May 1900 – 28 December 1977) was an Indian poet. He was one of the most celebrated 20th century poets of the Hindi language and was known for romanticism in his poems which were inspired by nature, people and beauty within. His father served as the manager of a local

मूल्यांकन शैली कितने प्रकार की होती है? उसे उदाहरण सहित समझाइए।...

मूल्यांकन परक शैली के प्रकार मूल्यांकनपरक शैली के सात प्रकार हैं 1. आलोचनात्मक मूल्यांकनपरक कथन शैली–जहाँ किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान या घटना का गुण-दोष के...

श्रोता या पाठक के मानस को एक ही केन्द्रीय बिन्दु पर...

विचारपरक या विचारात्मक शैली में विचारों की प्रधानता रहती है। इसमें सारे संचरक वाक्य किसी एक विचार या उसके विभिन्न पक्षों को प्रस्तुत करते...

व्याख्यात्मक शैली की सोदाहरण विवेचना कीजिए। Give an example of explanatory...

उत्तर–व्याख्यापरक शैली का आशय-'व्याख्या' शब्द का अर्थ है, विशेष आख्या अर्थात किसी अस्पष्ट अथवा जटिल विषय वस्तु को समझाकर प्रस्तुत करने की विधि इस...

मूल्यांकन शैली की परिभाषा लिखते हुए इसकी विशेषतों पर प्रकाश डालिए।...

उत्तर-किसी भी घटना अथवा व्यक्ति के संबंध में देखने या सुनने वाले के मानस में प्रतिक्रिया होती है। यह प्रतिक्रिया ही भाषा प्रयोग में...

विवरणात्मक शैली से क्या तात्पर्य है? उदाहरण सहित लिखते हुए इसकी...

सुस्पष्ट एवं प्रभावी रूप से अपनी बात को दूसरे तक प्रेषित करने की कला को शैली कहते हैं। शैली सामान्य कार्य पद्धति है। कथन...

शैली किसे कहते हैं ? शैली की विशेषता बताते हुए उन...

उत्तर-शैली शैली मनुष्य की पहचान कही गई है। वह अपने भावों अथवा विचारों को दूसरों तक संप्रेषित करने के लिए भाषा में अनेक प्रयोग...

कवन शैली के प्रकारों एवं स्वरूप पर विचार करते हुए किसी...

सुस्पष्ट एवं प्रभावी रूप से अपनी बात को दूसरे तक प्रेषित करने की कला को शैली कहते हैं। शैली सामान्य कार्य 'पद्धति' है शैली...

भारत माता कविता में कवि ने किस तरह के जनजीवन की...

उत्तर- 'भारत माता' कविता में सुमित्रानन्दन पन्त ने भारतीयों की गुलामी की दशा को चित्रित किया है। जिसमें ये भारतीय की दीन-हीन, शोषित, दुःखी,...

‘भारत अपने घर में ही हार गया है।” से कवि का...

कविवर सुमित्रानन्दन पंत ने अपनी कविता भारत माता में अंग्रेजों की पराधीनता की जंजीरों में जकड़े हुए भारतवासियों की मार्मिक दशा का चित्रण किया...

भारत माता कविता के आधार पर पंतजी की भाषा शैली पर...

उत्तर कवि सुमित्रानन्दन पंत छायावाद के प्रमुख स्तम्भों में से एक हैं तथा उनकी गणना छायावादी कवि चतुष्टय के अन्तर्गत की जाती है। इन्हें...

‘भारत माता’ कविता की दृष्टि से वर्तमान भारत में क्या परिवर्तन...

भारत माता कविता जब लिखी गयी थी उस समय भारत ब्रिटिश शासन के अधीन था। भारत माता गुलामी की बेड़ियों से जकड़ी हुई थी।...

“सामाजिक एवं राष्ट्रीय एकीकरण के लिए सांस्कृतिक विविधता अपरिहार्य है।” इस...

उत्तर--डॉ. योगेश अटल ने अपने लेख 'संस्कृति और राष्ट्रीय एकीकरण' में भारतीय संस्कृति की मूलभूत विशेषता सांस्कृतिक विविधता को सामाजिक एवं राष्ट्रीय एकता के...

Ad Blocker Detected!

Refresh